फ़ेसबुक पर शेयर करें
Copyright.png
जश्न मनाया जाय -आदित्य चौधरी

उनकी ख़्वाहिश, कि इक जश्न मनाया जाय
छोड़कर मुझको हर इक दोस्त बुलाया जाय

रौनक़-ए-बज़्म के लायक़ मेरी हस्ती ही नहीं[1]
यही हर बार मुझे याद दिलाया जाय

कभी जो शाम से बेचैन उनकी तबीयत हो
किसी मेरे ही ख़त को पढ़ के सुनाया जाय

कहीं जो भूल से भी ज़िक्र मेरा आता हो
यही ताकीद कि मक़्ता ही न गाया जाय[2][3]

मेरे वो ख़ाब में ना आएँ बस इसी के लिए
ताउम्र मुझको अब न सुलाया जाय

कभी सुकून से गुज़रा था जहाँ वक़्त मेरा
उसी जगह मुझे हर रोज़ रुलाया जाय

क़ब्र मेरी हो, जिस पे उनका लिखा पत्थर हो
मेरा वजूद ही दुनिया से मिटाया जाय

उनकी ख़्वाहिश, कि इक जश्न मनाया जाय
छोड़कर मुझको हर इक दोस्त बुलाया जाय



टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. बज़्म= सभा, महफ़िल
  2. ताकीद = कोई बात ज़ोर देकर कहना
  3. ग़ज़ल के आखरी शेर को जिसमें शायर का नाम अथवा उपनाम हो उसे ‘मक़्ता’ कहते हैं।

सभी रचनाओं की सूची

सम्पादकीय लेख कविताएँ वीडियो / फ़ेसबुक अपडेट्स
सम्पर्क- ई-मेल: [email protected]com   •   फ़ेसबुक